रविवार, मई 01, 2011

ग़ज़ल !!!!!

शहर में इनदिनों आख़िर बहोत माहौल बदला है
कोई घर में ही सिमटा है, कोई दुनिया में फैला है

सियासत दां है वो आख़िर उसे क्या फ़र्क पड़ता है
भले अन्दर से हो काला, मगर बाहर से उजला है

मैं ये ही सोचता था, कोई भी क़ाबिल नहीं मुझसा
मगर देखा जिसे वो ही यहां नहले पे देहला है

कहीं ग़म की घटा काली, कहीं खुशियों की रंगीनी
ये पर्दा ज़िन्दगी का भी सिनेमा सा रुपहला है

न मंज़िल का पता उसको, न तो हमवार हैं रस्ते
भारी दुनिया में वो शाइर "मुसाफ़िर" भी अकेला है

मुसाफ़िर



9 टिप्‍पणियां:

  1. मैं ये ही सोचता था, कोई भी क़ाबिल नहीं मुझसा
    मगर देखा जिसे वो ही यहां नहले पे देहला है bahut sunder...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (2-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहीं ग़म की घटा काली, कहीं खुशियों की रंगीनी
    ये पर्दा ज़िन्दगी का भी सिनेमा सा रुपहला है

    सुंदर ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 03- 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. सियासत दां है वो आख़िर उसे क्या फ़र्क पड़ता है
    भले अन्दर से हो काला, मगर बाहर से उजला है

    मैं ये ही सोचता था, कोई भी क़ाबिल नहीं मुझसा
    मगर देखा जिसे वो ही यहां नहले पे देहला है

    कलियुग का सत्य इन पक्तियों में खूब अभिव्यक्ति हो रहा है !
    अच्छी ग़ज़ल !

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय श्रीविलासजी,

    बहुत खूब। बहुत बधाई।

    मैं ये ही सोचता था, कोई भी क़ाबिल नहीं मुझसा
    मगर देखा जिसे वो ही यहां नहले पे देहला है।

    ॥ सः त्वां मां (च) अन्तरा स्वपिति ॥

    वह तुम्हारे और मेरे बीच में बैठा है। (ईश्वर?)

    मार्कण्ड दवे।
    http://mktvfilms.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. सियासत दां है वो आख़िर उसे क्या फ़र्क पड़ता है
    भले अन्दर से हो काला, मगर बाहर से उजला है
    ...
    बहुत ख़ूबसूरत गज़ल..हरेक शेर बहुत सटीक और उम्दा..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. कहीं ग़म की घटा काली, कहीं खुशियों की रंगीनी
    ये पर्दा ज़िन्दगी का भी सिनेमा सा रुपहला है
    ज़िंदगी का फलसफा ... बहुत अच्छी गज़ल ।

    उत्तर देंहटाएं